जर्नल समाज में ख़ुशी की लहर, कर डाली मक्खन बराड को जिताने की अपील।

0
29

शिरोमणि अकाली दल के मोगा विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी बरजिंदर सिंह मक्खन बराड़ ने आ.स.स.स. को लिखित में किया सवर्ण आयोग बनाने का वादा।

चन्नी का जर्नल कैटेगरी भलाई बोर्ड मात्र लॉलीपॉप : अश्वनी शर्मा

हरजोत कमल द्वारा केवल एक वर्ग के लिए केंद्र से मांगना भाजपा का जातिवाद, मक्खन बराड़ सभी वर्गों  के साथ एक समान : साहिल गुप्ता

प्रत्याशी द्वारा लिखित में किया सवर्ण आयोग का वादा ऐतिहासिक पहल : अभय कांत मिश्रा

मोगा (हैप्पी ढंड) आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति द्वारा सामान्य वर्ग के हितों के लिए सवर्ण आयोग की मांग को लेकर विधानसभा चुनावों के प्रत्याशियों से लिखित वादा लेने की मुहिम को उस समय बड़ी सफलता मिली, जब शिरोमणि अकाली दल के मोगा विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी सरदार बरजिंदर सिंह मक्खन बराड़ ने समिति के पंजाब प्रधान अश्विनी शर्मा को लिखित में सवर्ण आयोग बनाने का वादा कर डाला।

गौरतलब हो कि आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति केंद्र सहित सभी राज्य सरकारों से सामान्य वर्ग के लिए सवर्ण आयोग की मांग कर रही है। समिति ने फैसला किया था की देश के पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों में सामान्य वर्ग सिर्फ उस प्रत्याशी को ही समर्थन देगा जो सामान्य वर्ग के लिए सवर्ण आयोग का वादा लिखित में करेगा। इसी के मद्देनजर मोगा में भी प्रत्याशियों से सवर्ण आयोग बनाने के लिखित वादे की मांग होने लगी। शिरोमणि अकाली दल पार्टी के मोगा विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी मक्खन बराड ने समिति की मांग को स्वीकार करते हुए लिखित में वादा किया की वे सभी वर्गो के लिए एक समान कार्य करेंगे। यदि अकाली दल की सरकार बनती है तो वे सवर्ण आयोग बनवाने के लिए वचन बद्ध हैं।

सरदार बरजिंदर सिंह मक्खन बराड़
उम्मीदवार
हल्का मोगा
शिरोमणि अकाली दल पार्टी

उक्त लिखित वादे में पूर्व काउंसलर श्रीमती कमलेश रानी गर्ग सहित शहर के गणमान्य श्री मनोहर लाल बांसल ने गवाही भी भरी। मक्खन बराड़ ने उक्त लिखित वादा उस समय किया जब वे चुनाव प्रचार के मद्देनजर स्थानीय फ्रेंड कालोनी में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

इस मौके मक्खन बराड ने समाज के लिए आवाज उठाने के लिए आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति के पंजाब प्रधान अश्विनी शर्मा व साहिल गुप्ता की सराहना भी की।

लिखित में सवर्ण आयोग बनाने का वादा करने के लिए साहिल गुप्ता ने मक्खन बराड सहित शिरोमणि अकाली दल का धन्यवाद किया।

साहिल गुप्ता
राष्ट्रीय महासचिव (मीडिया प्रकोष्ठ) व पंजाब प्रदेश प्रभारी
आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति।

अश्विनी शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि इससे पहले फिरोजपुर शहरी हल्का के शिरोमणि अकाली दल पार्टी के प्रत्याशी रोहित वोहरा ने भी समिति को लिखित में सवर्ण आयोग बनाने का वादा किया है। पत्रकारों से वार्तालाप करते हुए अश्विनी शर्मा ने कहां की, समिति की सवर्ण आयोग की मांग पर पंजाब के मुख्यमंत्री सरदार चरणजीत सिंह चन्नी ने जर्नल कैटेगरी भलाई बोर्ड के नाम पर सामान्य वर्ग के साथ धोखा किया है। श्री शर्मा ने कहा की बिना किसी पावर के बनाया गया जर्नल कैटेगरी भलाई बोर्ड सामान्य वर्ग को लॉलीपॉप देने जैसा है। अश्विनी शर्मा ने जानकारी देते हुए कहा की सवर्ण आयोग की पावर सर्वोच्च न्यायालय के बराबर होनी चाहिए, तांकि आयोग सामान्य वर्ग के हितों की रक्षा के लिए सक्षम बन सके।

अश्वनी शर्मा
पंजाब प्रदेश अध्यक्ष
आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति

इस मौके साहिल गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति सनातन के सभी वर्गों में समन्वय चाहती है । श्री गुप्ता ने हाल ही में हुई पटना की घटना का हवाला देते हुए कहा की पटना में राज्य सरकार द्वारा विकास के नाम पर अनुसूचित जाति से संबंधित लगभग 600 परिवारों की एक बस्ती पर अनाधिकृत कर लिया, जिस कारण लोग सड़कों पर हैं। गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि समिति ने उक्त अनुसूचित जाति के परिवारों के पुनर्वास के लिए जंग छेड़ दी है, जोकि समन्वय का जीता जागता उदाहरण है। बातों ही बातों में गुप्ता ने आम आदमी पार्टी के सरपरस्त अरविंद केजरीवाल को भी आड़े हाथों लिया। गौरतलब हो कि आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति ने जर्नल कैटेगिरी के साथ मीटिंग करने आए नवदीप संघा को उस समय घेर लिया था जब वह आम आदमी पार्टी में थे । साहिल गुप्ता ने कहा की यदि आम आदमी पार्टी जनरल कैटेगरी की भलाई चाहती है तो पहले दिल्ली में सवर्ण आयोग बना कर दे जहां उनकी अपनी सरकार है । साहिल गुप्ता ने कहा कि हमें क्रेडिट नहीं सवर्ण आयोग चाहिए, क्रेडिट बाद में कोई भी आकर ले ले। लेकिन इसके लिए सवर्ण आयोग और जनरल कैटेगरी बोर्ड के अंतर को समझना होगा। इसके अलावा साहिल गुप्ता ने बीजेपी के प्रत्याशी हरजोत कमल को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा की हरजोत कमल द्वारा बाकी वर्गों को दरकिनार कर केवल एक वर्ग के लिए मंडल आयोग को लागू करने के लिए केंद्रीय नेतृत्व से मिलने जाने से स्पष्ट होता है कि भाजपा जातिवाद राजनीति से ओतप्रोत है।

इस मौके अकाली दल के प्रमुख नेता मंजीत धम्मू, मनोहर लाल बांसल, हरीश बांसल, कुणाल बांसल, भारत भूषण गर्ग, कमलेश रानी गर्ग, प्रदीप गर्ग, अनिकेत गर्ग, विशाल चौधरी, कुणाल शर्मा, ऋषि गुप्ता, टीटू, सुरेश, नरेश कुमार, राजेश, दर्शन लाल, सुरिंदर कुमार आदि उपस्थित थे।

उधर आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सुप्रीम कोर्ट के सीनियर अधिवक्ता अभय कांत मिश्रा ने एक वीडियो बयान जारी करते हुए बरजिंदर सिंह बराड द्वारा लिखित में किए वादे को इतिहासिक पहल बताते हुए शिरोमणि अकाली दल के प्रत्याशी की सराहना की।

आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अभय कांत मिश्रा (अधिवक्ता सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया)

जर्नल कैटेगरी के प्रमुख नेता के नाम से जाने जाते श्री मिश्रा ने मोगा शहर वासियों से अपील की है कि जातिवादी राजनीति से ऊपर उठकर समाज का भला चाहने मक्खन बराड को भारी मतों से जिताएं, ताकि सवर्ण आयोग बनने का रास्ता खुल सके।

रिपोर्टर : हैप्पी ढंड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here