Home राज्य पंजाब देश के महान क्रांतिकारी थे डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी : अविनाश राय...

देश के महान क्रांतिकारी थे डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी : अविनाश राय खन्ना

कहा, भारत में एक निशान, एक संविधान तथा एक प्रधान था डा. मुखर्जी का सपना

होशियारपुर (ज्योत्सना विज) भाजपा हिमाचल प्रदेश प्रभारी व पूर्व सांसद अविनाश राय खन्ना ने कहा कि डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी देश के महान क्रांतिकारी थे तथा भारत में एक निशान, एक संविधान व एक प्रधान की सोच के समर्थक थे।


इस मौके खन्ना ने कहा कि डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी सही मायनों में मानवता के उपासक व सिद्घांतवादी थे। डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी इस विचारधारा के प्रबल समर्थक थे कि सब एक समान हैं क्योंकि वे धर्मों के नाम पर विभाजन के सख्त विरोधी थे। खन्ना ने कहा कि डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी एक आखण्ड भारत का सपना देखते थे तथा उन्होंने अपने इस सपने को साकार करने के लिए ही अपनी कुर्बानी दी थी। जम्मू कश्मीर को डा. मुखर्जी भारत का अभिन्न अंग मानते थे तथा उस समय कांग्रेस सरकार ने जम्मू कश्मीर में धारा 370 लगाकर जम्मू कश्मीर में अलग निशान तथा अलग संविधान बना दिए थे तथा जम्मू कश्मीर में दाखिल होने के लिए आज्ञा लेनी पड़ती थी। डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने जम्मू कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग कहते हुए जम्मू कश्मीर में प्रवेश करना चाहा तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया तथा जेल में ही यात्नाओं के कारण उनकी भेदभरे हालातों में मृत्यु हो गई।


खन्ना ने कहा कि डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने धारा 370 का विरोध किया था क्योंकि धारा 370 के तहत जम्मू कश्मीर में तिरंगा नहीं बल्कि अलग झंडा था, जम्मू कश्मीर में कानून अलग थे तथा विस्थापितों के माथे पर जम्मू कश्मीर में रिफ्यूजी नाम का कलंग लगा हुआ था। खन्ना ने कहा कि धारा 370 हटने के बाद जम्मू कश्मीर में डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सपने के अनुरू प एक निशान, एक संविधान तथा एक प्रधान बना। विस्थापितों को आजादी से जीने का अवसर मिला तथा उनके माथे से वैस्ट पाक रिफ्यूजी नाम का कलंक समाप्त हुआ।


इस मौके श्री खन्ना ने डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि पर पौधे लगाकर उन्हें श्रद्घांजलि दी। इस मौके पर खन्ना ने उपस्थिती को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदूषण के कारण दिन प्रतिदिन बढ़ रही ग्लोबल वार्मिंग पर्यावरण के लिए बहुत बड़ा संकट है। खन्ना ने कहा कि इस संकट से पर्यावरण, मानवता तथा जीव जगत को बचाने के लिए पेड़ लगाना ही एकमात्र विकल्प है। खन्ना ने कहा कि आधुनिकता की दौड़ में मनुष्य जहां निरंतर पेड़ों को काटकर जंगलों को नष्ट कर रहा है वहीं मानवता पर आने वाली कोरोना वायरस जैसी विपत्तियां ऑक्सीजन की कमी के कारण पूरी दुनिया को संभावित अंत की तरफ धकेल रही हैं।


खन्ना ने लोगों को इस खतरे के प्रति सचेत करते हुए कहा कि अभी भी समय है कि हम दुनिया को इस संभावित खतरे से ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाकर उबार सकते हैं। पेड़ लगाने से न केवल पर्यावरण में ऑक्सीजन की कमी पूरी होगी बल्कि यह पर्यावरण व जीवजगत की रक्षा की तरफ भी एक कारगर कदम सिद्घ होगा। इस मौके पर खन्ना ने लोगों से अपील की कि हर नागरिक यदि अपने जीवन में कम से कम 5 पेड़ लगाकर पूरी जिम्मेदारी से उनकी देखभाल करे तो संभावित अंत की तरफ बढ़ रही पृथवी को नया जीवन मिलेगा तथा हमारी आने वाली पीढ़ीयां स्वच्छ, स्वस्थ्य तथा हरे भरे वातावरण में सांस ले सकेंगी।


खन्ना ने लोगों से यह भी अपील की कि समय की मांग है कि हम ज्यादा ऑक्सीजन पैदा करने वाले पेड़ जैसे बोहड़, पीपल तथा नीम की त्रिवेणी लगाएं। इस मौके खन्ना ने शिवपुरी में 50 से अधिक पौधे लगाकर यहां प्राकृतिक ऑक्सीजन सैंटर स्थापित किया। इस मौके इस मौके पर सी.ए. तरनजीत सिंह, सी.ए. दीपक मित्तल, पियूष गुप्ता, मुकुल सिंगला ने श्री खन्ना को उनके द्वारा पर्यावरण संरक्षण के लिए किए जा रहे प्रयासों के लिए उन्हें सम्मानित भी किया। इस मौके उद्योगति गोपाल अग्रवाल, विजय अग्रवाल, गोपी चंद कपूर, डा. रमन घई, मनोज शर्मा सहित एन.जी.ओ. के अन्य सदस्य भी उपस्थित थे।

नेशनल रिपोर्टर : ज्योत्सना विज

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here