Home चंडीगढ़ हि.प्र. पुलिस भर्ती घोटाले से सरकार ने 75 हजार युवाओं का भविष्य...

हि.प्र. पुलिस भर्ती घोटाले से सरकार ने 75 हजार युवाओं का भविष्य धकेला अंधकार में, हो सीबीआई जांच : डीजेपी

खटारा बसों में किराया माफी, ठगे गए युवाओं के साथ घिनौना मजाक : रुमित ठाकुर

चेतावनी : यदि सीबीआई जांच ना हुई तो देवभूमि जनहित पार्टी उतरेगी सड़कों पर

एजागरण न्यूज़ नेटवर्क पोर्टल/डलहौज़ी/सोलन (इंदरजीत सिंह) हाल ही में हुए हिमाचल प्रदेश पुलिस भर्ती पेपर लीक का मामला गर्माता जा रहा है। भले ही जयराम सरकार ने उक्त पेपर दोबारा लेने का निर्णय लिया है, लेकिन प्रदेश में कई तरह के हुए भर्ती घोटालों से जयराम ठाकुर सरकार सवालों के घेरे में आ गई है। वहीं देवभूमि जनहित पार्टी ने इस मुद्दे पर सीबीआई की जांच की मांग की है। बीते दिन डीजेपी अध्यक्ष रुमित ठाकुर ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लाइव होकर पुलिस भर्ती घोटाले में प्रदेश सरकार सहित कई आला अधिकारियों की मिलीभगत का आरोप लगाते हुए सीबीआई जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि सरकार पुलिस भर्ती घोटाले को दबाने के लिए परीक्षा परिणाम रद्द करवाने के नाम पर पल्ला झाड़ रही है।

रुमित ने कहा कि जहां पुलिस भर्ती घोटाले से 75 हजार युवाओं का भविष्य अंधकार की तरफ धकेल दिया गया है, वहीं जयराम ठाकुर सरकार द्वारा उक्त परीक्षा दोबारा करवाने के नाम के साथ साथ दूर दराज से दोबारा परीक्षा देने आने वाले परीक्षार्थियों को एचआरटीसी की बसों में किराया माफी देकर ठगे गए युवाओं के साथ घिनौना मजाक किया है। रोहित ठाकुर ने हिमाचल प्रदेश सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि जिन एचआरटीसी की बसों में सरकार मुफ्त सफर की बात कर रही है, उन धुआं फेंकू खटारा बसों पर चिंतन करने की आवश्यकता है। प्रदेश में हुआ बड़े स्तर पर भर्ती घोटाले से हजारों युवा अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं। रुमित ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि पुलिस भर्ती घोटाले मामले की सीबीआई जांच ना करवाई गई तो देवभूमि जनहित पार्टी अपने हजारों कार्यकर्ताओं सहित सड़कों पर उतरेगी, जिसकी सारी जिम्मेदारी हिमाचल प्रदेश सरकार की होगी।

इंदरजीत सिंह भुल्लर,
हिमाचल प्रदेश प्रबंधक व स्पैशल रिपोर्टर

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here