किसके सर पर सजेगा कांग्रेस के जिला प्रधान का ताज

0
12

विश्वनाथ बंटी और दलजीत गिलजिया में कांटे का मुकाबला

होशियारपुर (ज्योत्सना विज) अमरिंदर सिंह राजा वडिंग के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद अब जिला कांग्रेस कमेटियों के गठन की तैयारियां शुरू हो गई हैं। जिला कांग्रेस प्रधान के लिए होशियारपुर में भी जोड़तोड़ होने लगा है। राजनीतिक सूत्रों के अनुसार जिला प्रधान की दौड़ में वर्तमान जिला अध्यक्ष डॉ कुलदीप नंदा के साथ-साथ यूथ कांग्रेस के पूर्व जिला प्रधान विश्वनाथ बंटी, जिला कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष यामिनी गोमर, पूर्व कैबिनेट मंत्री संगत सिंह के भतीजे दलजीत सिंह गिलजीया, गढ़शंकर से अंबिका सोनी के करीबी पंकज कृपाल तथा जिला कांग्रेस के महासचिव रजनीश टंडन का नाम प्रमुखता के साथ लिया जा रहा है। राजनीतिक सूत्रों के अनुसार बताया जाता है कि दलजीत सिंह तथा विश्वनाथ बंटी अपने कार्यों के तौर पर पार्टी में अधिकतर लोगों की पहली पसंद बने हुए हैं।

जहां दलजीत सिंह ने संगत सिंह के चुनाव में कई बार शानदार काम किया तथा लोगों के साथ संपर्क बनाया जिसके चलते संगत सिंह तीन बार लगातार विधायक चुने गए। इसी तरह जहां तक विश्वनाथ बंटी का सवाल है वह पूरे जिले में किसी भी पहचान के मोहताज नहीं है। 1997 से लेकर 2002 तक जिला यूथ कांग्रेस के प्रधान के तौर पर उन्होंने शानदार सेवाएं दी युवा वर्ग पर उनकी कमांड किसी से छुपी हुई नहीं है। इतना ही नहीं विश्वनाथ बंटी ने कांग्रेस को उसके स्वर्णिम दौर में पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। कांग्रेस ने जो भी कैंडिडेट लोकसभा अथवा विधानसभा के लिए दिया विश्वनाथ बंटी ने उसका दिल से साथ दिया तथा उसकी विजय सुनिश्चित बनाने के लिए दिन रात एक कर दिया। यही कारण रहा कि जब तक बंटी पद पर विराजमान रहे कांग्रेस की जिले में तूती बोलती रही। वैसे राजनीति में तो हार जीत लगी रहती है लेकिन बंटी में महारत शामिल है जो हारी हुई बाजी को भी पलट सकता है।

जिले के सभी कांग्रेसी नेताओं का उनको समर्थन है इसी तरह यामिनी गोमर जिला अध्यक्ष पद के लिए अपने सर पर पूरा जोर लगा रही है। वह 2014 के लोकसभा चुनाव में 200000 से अधिक मत प्राप्त करने में सफल रही उस समय यामिनी आम आदमी पार्टी की उम्मीदवार थी। 2017 के विधानसभा चुनाव में में सुंदर शाम अरोड़ा के प्रयासों से वह कांग्रेस पार्टी में शामिल होंगे। सब ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि उन्हें कोई महत्वपूर्ण पद दिया जाएगा। लेकिन 5 साल तक ऐसा नहीं हो सका। हां इतना जरूर है कि चुनावों से कुछ समय पहले उन्हें जिला कांग्रेस का कार्यकारी प्रधान बना दिया गया। जहां तक बात रजनीश टंडन की है वह लंबे समय से कांग्रेस के जिला महासचिव पद पर काम कर रहे हैं। काम के आधार पर उनकी वरिष्ठता किसी से छुपी नहीं है प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजा से उनकी निकटता उन्हें इस पद पर विराजमान कर सकती है। अब देखना होगा कि कांग्रेस हाईकमान किस नेता पर दाव लगाता है क्योंकि 2024 का लोकसभा चुनाव सामने खड़ा है।

नेशनल रिपोर्टर : ज्योत्सना विज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here